Home राजनीति AICWF के आह्वान पर निर्माण मजदूरों ने किया उपश्रमायुक्त के समक्ष ...

AICWF के आह्वान पर निर्माण मजदूरों ने किया उपश्रमायुक्त के समक्ष प्रदर्शन, केंद्र और राज्य सरकार की मजदूर विरोधी नीतियों के खिलाफ जमकर नारेबाजी की….

रिपोर्ट – रवि शंकर सिन्हा

सिल्क टीवी भागलपुर (बिहार) : एआईसीडब्ल्यूएफ के राष्ट्रव्यापी आह्वान पर मंगलवार को मजदूरों की गुलामी के 4 लेबर कोड, निर्माण मजदूरों के निबन्धन और सामाजिक सुरक्षा अनुदान के भुगतान में अनावश्यक देरी, धांधली और मजदूर एवं ट्रेड यूनियन अधिकारों के कानूनों पर बढ़ते हमले के खिलाफ बिहार राज्य निर्माण मजदूर यूनियन (ऐक्टू) के बैनर तले भागलपुर उपश्रमायुक्त के समक्ष मजदूरों ने प्रदर्शन किया। झंडे-बैनर एवं मांग पट्टिकाओं से लैश सैकडों महिला-पुरुष निर्माण मजदूरों ने केंद्र और राज्य सरकार की मजदूर विरोधी नीतियों के खिलाफ जमकर नारेबाजी की।

साथ ही श्रम विभाग में सामाजिक सुरक्षा योजना एवं निबन्धन में व्याप्त भ्रष्टाचार के खिलाफ भारी आक्रोश व्यक्त किया। प्रदर्शन का नेतृत्व एआईसीडब्ल्यूएफ के राष्ट्रीय महासचिव एस.के.शर्मा, बिहार राज्य निर्माण मजदूर यूनियन (ऐक्टू) के राज्य सह जिला सचिव मुकेश मुक्त, जिला संयुक्त सचिव अमर कुमार, चंचल पंडित, राजेश कुमार दास, बुधनी देवी, मो. सुदीन, इनोद पासवान एवं आइसा परबीन ने किया। वहीं इस दौरान सभा को सम्बोधित करते हुए AICWF के राष्ट्रीय महासचिव सह ऐक्टू के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष एस के शर्मा ने कहा कि मोदी सरकार मजदूरों को नई गुलामी की ओर धकेल रही है। वर्षों के संघर्ष से हासिल हक-अधिकार को 4 लेबर के जरिए सरकार खत्म करने पर उतारू है, जबकि श्रम सुधार के नाम पर कॉरपोरेट घरानों को श्रम के लूट की खुली छूट दे रही है। ट्रेड यूनियन अधिकारों पर हमला कर मजदूरों के संगठित होने के हक को छीना जा रहा है।

वहीं ऐक्टू के राज्य सह जिला सचिव मुकेश मुक्त ने मजदूरों की मांगों पर विस्तृत चर्चा करते हुए कहा कि कोरोना महामारी और लॉकडाउन ने मजदूरों का कमर तोड़ दिया। मजदूरों को सहायता देने के बजाय सरकारें ई-श्रम का पोलिटिकल गेम खेल रही है। समूचे तंत्र का उपयोग कर मोदी सरकार मजदूरों के शोषण-दोहन में लगी हुई। निर्माण सहित असंगठित मजदूरों का पहले से ही कल्याण बोर्ड है और मजदूरों की सामाजिक सुरक्षा के लिए इसमें अरबों रुपये भी जमा है। लेकिन सामाजिक सुरक्षा भुगतान के मामले में सरकार आनाकानी कर बोर्ड के कोष को हड़प लेना चाहती है। प्रदर्शन को भाकपा-माले के जिला सचिव बिन्देश्वरी मंडल, नगर सचिव सुरेश प्रसाद साह, अराजपत्रित कर्मचारी महासंघ-गोपगुट के सम्मानित जिला अध्यक्ष विष्णु कुमार मंडल, आशुतोष यादव ने भी सम्बोधित किया। इसके अलावा प्रदर्शन के अन्त में ऐक्टू के मुकेश मुक्त के नेतृत्व में एक प्रतिनिधिमंडल ने मजदूरों की स्थानीय समस्याओं पर श्रम अधीक्षक से वार्ता की, और प्रधानमंत्री के नाम राष्ट्रीय स्तर की मांगों से सम्बंधित ज्ञापन उपश्रमायुक्त कार्यालय में सौंपा। जबकि श्रम अधीक्षक ने सामाजिक सुरक्षा और निबन्धन से सम्बंधित स्थानीय मामले के जल्द निपटारे का आश्वासन दिया।

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular

Recent Comments