Home भागलपुर सिल्क व्यवसाय में एक्सपोर्ट से जुड़ी समस्या को लेकर रेशम भवन में...

सिल्क व्यवसाय में एक्सपोर्ट से जुड़ी समस्या को लेकर रेशम भवन में हुआ प्रदर्शनी सह कार्यक्रम का आयोजन, जीएम ने कहा भागलपुर जल्द खुलेगा DGFT का कार्यालय

रिपोर्ट – रवि शंकर सिन्हा

सिल्क टीवी भागलपुर (बिहार) :सिल्क व्यवसाय को बढ़ावा देने और बेहतर बाजार मुहैया कराने को लेकर सरकार द्वारा कई तरह से पहल की जा रही है। इसी कड़ी में शुक्रवार को भागलपुर के ज़ीरो माईल स्थित रेशम भवन में आज़ादी का अमृत महोत्सव के तहत वाणिज्य मंत्रालय के निर्देशानुसार जिला उद्योग केन्द्र की ओर से क्वालिटी और एक्सपोर्ट पर परिचर्चा का आयोजन किया गया।

इस दौरान जिला उद्योग केन्द्र के महाप्रबंधक राम शरण राम ने कहा कि केंद्र के साथ राज्य सरकार भी भागलपुर की पहचान सिल्क उद्योग को बढ़ावा देने और रोजगार के अवसर पैदा करने को लेकर कार्य कर रही है, जिससे यहां के बुनकर और सिल्क व्यवसायियों को बेहतर क्वालिटी के साथ बाजार भी मुहैया कराया जा सके। महाप्रबंधक ने कहा कि इसको ध्यान में रखते हुए डायरेक्टर जनरल ऑफ़ फॉरेन ट्रेड का कार्यालय खोला जाएगा, जिससे सिल्क व्यवसाय को देश के साथ विदेश तक फैलाया जा सके। साथ ही उन्होंने कहा कि सिल्क व्यवसाय को अपनी पुरानी पहचान वापस पाने के लिए क्वालिटी पर भी ध्यान देना होगा जिसके लिए क्वालिटी टेस्टिंग सेण्टर बनाने की भी तैयारी उद्योग विभाग द्वारा की जा रही है।

वहीं आर्थिक सशक्तिकरण उभरता भारत विषय पर आयोजित कार्यक्रम में मुख्य रूप से रेशम उद्योग को सशक्त बनाने के लिए एक्सपोर्ट में होने वाली समस्या और इसके निराकरण पर विभिन्न विभाग से आये पदाधिकारियों एवं जानकारों ने अपनी बात रखी। इस दौरान तसर सिल्क, मलबरी समेत रेशम से तैयार साड़ी, चादर, दुपट्टा समेत सिल्क धागों से बने उत्पादों की प्रदर्शनी भी लगाई गई। जिसे अधिकारियों और लोगों ने देखकर उसकी गुणवत्ता की जानकारी ली। कार्यक्रम में भागलपुर स्मार्ट सिल्क सिटी के जीएम राहुल रंजन ने बुनकरों के उत्थान के लिए कच्चा माल उपलब्ध कराने, बाजार से सस्ता माल मुहैया कराने, कॉमन फैसिलिटी सेण्टर के माध्यम से सुविधा मुहैया कराने और बाजार में तैयार माल को बेचने में मदद देने की बात कही। साथ ही उन्होंने सिल्क सिटी भागलपुर के गौरव को वापस लाने के अलावे बेहतर क्वालिटी के साथ रोजगार के अवसर प्रदान करने की बात कही।

जबकि एलडीएम मोना कुमारी ने कहा कि सिल्क व्यवसाय को बढ़ावा देने के लिए बैंक अपनी ओर से लोन समेत हर संभव मदद देने का आश्वाशन दिया। साथ ही कार्यक्रम में बाजार और एक्सपोर्ट को लेकर कई लोगों अपने अनुभव साँझा करते हुए कई सुझाव भी दिया। मौके पर जिला कृषि पदाधिकारी के के झा, मनोज झा, दिनेश पासवान समेत रेशम तकनीकी सेवा केंद्र के कर्मी, कई अधिकारी और सिल्क व्यवसाय से जुड़े लोग मौजूद रहे।

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular

Recent Comments