Home बिहार विद्या भारती की ओर से किया गया पुस्तक समीक्षा बैठक का आयोजन,...

विद्या भारती की ओर से किया गया पुस्तक समीक्षा बैठक का आयोजन, राष्ट्रीय शिक्षा नीति को ध्यान में रखकर पाठ्यक्रम में बदलाव करने पर हुई चर्चा….

रिपोर्ट – रवि शंकर सिन्हा

सिल्क टीवी भागलपुर (बिहार):विद्या भारती बिहार क्षेत्र की ओर से भागलपुर के आनंदराम ढांढनिया सरस्वती विद्या मंदिर में एक दिवसीय पुस्तक समीक्षा बैठक का आयोजन किया गया। बैठक में विद्या भारती के विद्यालयों में चलने वाले पाठ्य पुस्तकों की समीक्षा कर नई राष्ट्रीय शिक्षा नीति के अनुरूप सभी विषयों के कंटेंट तैयार करने को लेकर विस्तार पूर्वक चर्चा की गई।

इस दौरान राष्ट्र और संस्कृति के अनुरूप कौशल विकास को बढ़ावा देने वाली शिक्षा बच्चों को देने के साथ राष्ट्रीय शिक्षा नीति के परिपेक्ष्य में पुस्तकों में पाठ्य सामग्री शामिल करने पर जोर दिया गया। कार्यक्रम में बिहार विद्या भारती उत्तर क्षेत्र के क्षेत्रीय संगठन मंत्री ख्यालीराम, क्षेत्रीय सचिव नकुल कुमार शर्मा, शिक्षा संकायाध्यक्ष राकेश कुमार, भारती शिक्षा समिति बिहार के प्रदेश सचिव प्रकाश चंद्र जायसवाल, प्रदेश सचिव प्रदीप कुशवाहा समेत कई शिक्षाविदों ने कहा कि नई राष्ट्रीय शिक्षा नीति सर्वमान्य है और इसके कई बिंदुओं पर पूर्व से ही विद्या भारती के विद्यालयों में पठन पाठन जारी है।

वहीं लोक शिक्षा समिति बिहार के प्रदेश सचिव मुकेश नंदन, विद्या विकास समिति झारखंड के प्रदेश सचिव अजय कुमार तिवारी, भागलपुर के विभाग प्रमुख विनोद कुमार और प्रधानाचार्य अनंत कुमार सिन्हा ने कहा कि समय-समय पर पुस्तकों की समीक्षा बहुत ही आवश्यक है। क्षेत्रीय सचिव नकुल कुमार शर्मा ने कहा कि शिक्षण के चार स्तंभों में आचार्यों की भूमिका काफी महत्वपूर्ण होती है, इसलिए पाठ्य सामग्री निर्माण में इनके सुझाव पर ध्यान देने की जरूरत है।

इधर प्रधानाचार्य अनंत कुमार सिन्हा ने कहा कि विद्या भारती द्वारा प्रत्येक दो वर्ष में पाठ्य पुस्तकों की समीक्षा की जाती है, जिसमें बिहार और झारखण्ड के विद्यालयों के शिक्षक और पदाधिकारी की मौजूदगी में समीक्षा कर उचित एवं आवश्यक कंटेंट शामिल करने पर चर्चा की गई।

इस मौके पर बिहार एवं झारखंड के विभिन्न विद्या मंदिरों के आचार्य, प्रधानाचार्य एवं अधिकारियों ने पुस्तक निर्माण समिति को कई सुझाव दिए, जिससे विद्या भारती के विद्यालयों में चलने वाले पाठ्यपुस्तक छात्र छात्राओं के लिए राष्ट्रिय शिक्षा नीति के साथ राष्ट्रीयता के अनुरूप हो। मौके पर विद्यालय के शिक्षक शिक्षिकाओं के अलावा बिहार झारखण्ड के विभिन्न विद्यालयों से आये शिक्षाविद और पदाधिकारी शामिल रहे।   

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular

Recent Comments