Home बिहार राष्ट्रीय अध्यक्ष राजेश रंजन उर्फ पप्पू यादव को लॉकडाउन नियम तोड़ने के...

राष्ट्रीय अध्यक्ष राजेश रंजन उर्फ पप्पू यादव को लॉकडाउन नियम तोड़ने के आरोप में गिरफ्तार

पटना पुलिस ने मधेपुरा के पूर्व सांसद और जन अधिकार पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष राजेश रंजन उर्फ पप्पू यादव को लॉकडाउन नियम तोड़ने के आरोप में गिरफ्तार कर लिया है। मंगलवार की सुबह पप्पू यादव के पटना स्थित आवास पर टाउन डीएसपी के नेतृत्व में पुलिस की एक टीम पहुंची, जिसके बाद उनको हिरासत में ले लिया गया। बताया जा रहा है कि पूर्व सांसद पप्पू यादव पर सरकारी काम में बाधा डालने और लॉकडाउन के नियमों का उल्लंघन करने का आरोप है। जानकारी के अनुसार शुरुआत में पप्पू यादव को हाउस अरेस्ट किया गया था, लेकिन बाद में उन्हें गांधी मैदान पुलिस स्टेशन ले जाया गया। पुलिस के मुताबिक, उन्होंने लॉकडाउन के दौरान कई अस्पतालों का दौरा किया है, जो महामारी रोग अधिनियम के तहत नियमों का उल्लंघन है। इसके अलावा सारण पुलिस ने भी सरकारी संपत्तियों को नुकसान पहुंचाने के आरोप में पप्पू यादव के खिलाफ FIR दर्ज की है। बता दें पिछ्ले दिनों पप्पू यादव ने बीजेपी सांसद राजीव प्रताप रूड़ी के एक स्थान पर धावा बोलकर दो दर्जन से ज्यादा एंबुलेंस बिना इस्तेमाल के रखे होने का मामले का खुलासा किया था। जिसके बाद बिहार की सियासत गरमाने लगी थी। वहीं पप्पू यादव की गिरफ्तारी पर राजनीतिक दलों के नेताओ ने सरकार को आड़े हाथ लेते हुए राष्ट्रीय अध्यक्ष की रिहाई की मांग की है। पूरे प्रकरण पर कांग्रेस विधान मण्डलदल के नेता अजीत शर्मा ने कहा कि पप्पू यादव की गिरफ्तारी लोकतंत्र की हत्या है। उन्होने कहा कि सत्ता पक्ष के लोग आए दिन लॉक डॉउन नियम की धज्जियां उड़ा रहें हैं लेकिन उनपर कोई मुकदमा दर्ज नहीं होता लेकिन जो लोग जान जोखिम में डाल कर जनता की सेवा कर रहें हैं उन्हें सीएम नीतिश कुमार दवाब में आकार गिरफ्तार करवा रहें हैं। विधायक अजीत शर्मा ने सरकार से पप्पू यादव को रिहा करते हुए प्रदेश की स्वास्थ्य व्यवस्था में सुधार लाने की मांग की है। वहीं जाप सुप्रीमो की गिरफ्तारी की खबर मिलते ही जन आधिकारी पार्टी के नेता और कार्यकर्ताओं में काफी आक्रोश देखा जा रहा है। जाप के जिला अध्यक्ष्य नीरज कुमार और अल्पसंख्यक प्रकोष्ठ के प्रदेश अध्यक्ष जफर मुस्तफा ने बताया कि कोई जनप्रतिनिधि अगर दिन-रात जनता की सेवा करे और उसके एवज में उसे गिरफ़्तार किया जाए तो ऐसी घटना मानवता के लिए खतरनाक है और इसका फ़ैसला जनता खुद करेगी। जफर मुस्तफा ने कहा कि मामलों की न्यायिक जांच के बाद ही कोई कारवाई होनी चाहिए। यदि ऐसा नहीं होता है तो जन आक्रोश होना लाजमी है। वहीं भागलपुर के जाप नेता सैयद रागिब हसन ने पप्पू यादव की गिरफ्तारी की निंदा करते हुए कहा कि कोरोना के दौर में राज्य सरकार खुद फेल है, और  जो लोग मरीजों की सेवा में उतरे हुए हैं, उन्हें भी परेशान किया जा रहा है। सैयद रागिब ने कहा कि जिंदगी बचाने के लिए जान हथेली पर रखना अगर सरकार को अपराध लगता है तो यह अपराध हमारे नेता क्या राज्य की जनता भी करेगी।

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular

Recent Comments