Home भागलपुर भागलपुर नगर निगम में हुए लेबर घोटाले पर स्पेशल ब्रांच की है...

भागलपुर नगर निगम में हुए लेबर घोटाले पर स्पेशल ब्रांच की है नजर, सिटी एसपी करेंगे मेयर और जिप अध्यक्ष पर लगे आरोपों की जांच

रिपोर्ट – सैयद ईनाम उद्दीन

सिल्क टीवी/भागलपुर (बिहार) : भागलपुर नगर निगम के खाते से फर्जी भुगतान कर सरकारी खजाने को चुना लगाये जाने का मामला उजागर होने के बाद स्पेशल ब्रांच के निर्देश पर पुलिस प्रशासन ने जांच शुरू कर दी है।

सिटी एसपी स्वर्ण प्रभात

बता दें इस घोटाले का आरोप वर्तमान मेयर सीमा साहा और उनके पति निवर्तमान जिला परिषद अध्यक्ष अनंत कुमार उर्फ़ टुनटुन साह पर लगा है। दरअसल टुनटुन साह के शोरूम और पेट्रोल पंप पर काम कर रहे आधा दर्जन कर्मचारियों को नगर निगम से वेतन दिया जा रहा था।

जिसकी शिकायत उनके शोरूम पर काम करने वाले अनिल कुमार ने डीएम के साथ सीएम तक से की थी। गौरतलब हो कि मामला प्रकाश में आते ही पार्षद एकता मंच ने भी लेबर घोटाले की जांच निगरानी से कराने की मांग करते हुए जोरदार आंदोलन किया था। इधर स्पेशल ब्रांच की सूचना के आधार पर भागलपुर एसएसपी निताशा गुड़िया ने सिटी एसपी स्वर्ण प्रभात को जांच का निर्देश दिया है।

एसएसपी ने बताया कि स्पेशल ब्रांच और पुलिस हेड क्वार्टर से मिले पत्र में मेयर सीमा साहा और उनके पति टुनटुन साह पर निगम के सफाई कर्मियों के नाम पर अवैध पैसा निकासी का आरोप है। जानकारी के अनुसार आरोपों की जांच का जिम्मा एसएसपी ने सिटी एसपी स्वर्ण प्रभात को सौंपा है, ताकि स्पेशल ब्रांच को ससमय इसकी रिर्पोट भेजी जा सके। वहीं पूरे मामले को लेकर सोमवार को नगर निगम सभागार में पार्षद एकता मंच के संयोजक सह वार्ड नंबर 21 के पार्षद संजय सिन्हा की अध्यक्षता में बैठक हुई। बैठक में वार्ड नंबर 27 के पार्षद उमर चांद और 25 के गोविंद बनर्जी ने कहा कि नगर निगम में सफाई कर्मियों को बिना कार्य किये अवैध भुगतान का मामला प्रमाणित है। जिसका सारा साक्ष्य पार्षद एकता मंच के पास भी उपलब्ध है।

जबकि वार्ड 33 के पार्षद प्रतिनिधि मो. मेराज और वार्ड 26 के संजय तांती ने बताया कि हम लोग जांच में पुलिस प्रशासन को सहयोग करने के लिए तैयार हैं। वार्ड 6 के पार्षद पंकज कुमार ने कहा कि उन्हें भरोसा है कि घोटाला में संलिप्त सभी लोग जेल जाएंगे। क्योंकि जांच पर स्पेशल ब्रांच की नजर है। इस दौरान संजय सिन्हा ने बताया कि नगर निगम में भ्रष्टाचार चरम सीमा पर है। साथ ही कहा कि अगर पुलिस सख्ती से जांच करेगी तो घोटाले के और भी कई मामले उजागर हो सकते हैं। वहीं नगर निगम में दिनभर मजदूर घोटाले की जांच आईपीएस अधिकारी द्वारा किए जाने की चर्चा होती रही।

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular

Recent Comments