Home कृषि बिहार राष्ट्रीय स्तर पर बना कृषि विकास का रोल मॉडल: कृषि मंत्री...

बिहार राष्ट्रीय स्तर पर बना कृषि विकास का रोल मॉडल: कृषि मंत्री अमरेंद्र प्रताप सिंह..

 रिपोर्ट- इशू राज 

सिल्क टीवी/भागलपुर(बिहार): बिहार कृषि विश्वविद्यालय के सभागार में आयोजित 21वीं प्रसार शिक्षा परिषद का दो दिवसीय कार्यक्रम शनिवार को संपन्न हो गया। इस दौरान विश्वविद्यालय के निदेशक प्रसार शिक्षा डॉ आर के सोहाने ने सभी अतिथियों का स्वागत किया। जबकि मंचासीन अतिथियों ने संयुक्त रूप से बिहार सरकार के कृषि मंत्री अमरेंद्र प्रताप सिंह को मखाना का माला माला पहनाकर उनका स्वागत किया।

वहीं डॉ आर के सोहाने ने विश्वविद्यालय के शोध एवं विकसित तकनीक को किसानों के खेतों तक पहुंचाने के साथ कौशल विकास की दिशा में किए गए कार्यों की विस्तार से जानकारी दी। उन्होंने पहली बार किसी प्रसार शिक्षा परिषद की बैठक में शामिल होने पर कृषि मंत्री का आभार जताया, और कहा कि कृषि विकास की दिशा में निदेशालय के द्वारा 12 परियोजनाएं संचालित हो रही है, जिसका लाभ 21 कृषि विज्ञान केंद्र और छह कृषि कॉलेजों के माध्यम से किसानों तक पहुंचाई जा रही है। बैठक के दूसरे दिन कृषि विज्ञान केंद्र औरंगाबाद, भोजपुर, जहानाबाद, नवादा, इस्लामपुर और बांका सहित अन्य कृषि विज्ञान केंद्र के वरीय वैज्ञानिक सह प्रधान द्वारा प्रगति प्रतिवेदन की प्रस्तुति दी गई। वहीं बैठक में कृषि मंत्री अमरेंद्र प्रताप सिंह ने कहा कि आमदनी बढ़ाने की दिशा में समेकित कृषि प्रणाली को अपनाया जाय, और अधिक उपज के चक्कर में किसान जहर पैदा ना करें। बिहार सरकार ने आमदनी बढ़ाने की दिशा में कई पहल की है जिसके तहत पशुपालन और मत्स्य पालन के अलावा और भी कई योजना चलाई जा रही है जिसका लाभ उठाकर कृषि वैज्ञानिकों की मदद से बेहतर उपज और लाभ प्राप्त किया जा सकता है। मंत्री ने कहा कि सब के प्रयास से ही बिहार राष्ट्रीय स्तर पर कृषि विकास का रोल मॉडल बना है।

विशिष्ट अतिथि स्वामी केशवानंद राजस्थान कृषि विश्वविद्यालय बीकानेर के कुलपति प्रो आरपी सिंह ने कहा कि किसानों को दी जा रही सॉयल हेल्थ कार्ड में किन फसलों की खेती होगी इसकी भी अनुशंसा होनी चाहिए। उन्होंने कहा कि कृषि विज्ञान केंद्र के वैज्ञानिकों को उन्नत और गुणवत्तापूर्ण बीज का उत्पादन करने से विपणन में कोई परेशानी नहीं होगी। 

इधर अटारी पटना के निदेशक डॉ अंजनी कुमार ने कहा कि कृषि विकास की दिशा में प्रसार निदेशालय की अहम भूमिका है, जिससे इनके बेहतर कार्यों से तुरंत किसानों को लाभ मिलता है। उन्होंने राज्य के कृषि मंत्री का ध्यान कृषि विज्ञान केंद्रों की समस्या की ओर ध्यान आकृष्ट किया। कार्यक्रम

की अध्यक्षता करते हुए रहे बीएयू के कुलपति डॉ अरुण कुमार ने कहा कि विश्वविद्यालय के वैज्ञानिकों द्वारा किए गए शोध और विकसित तकनीकी का प्रसार कॉलेजों एवं कृषि विज्ञान केंद्रों के माध्यम से खेतों तक पहुंचा है, जिससे किसान लाभान्वित हो रहे हैं। बैठक को निदेशक शोध डॉ पी के सिंह और बांका जिला के प्रगतिशील किसान संतलाल बेसरा ने भी संबोधित किया।मौके पर विश्वविद्यालय के सभी डीन डायरेक्टर, विभागों के अध्यक्ष, कृषि विज्ञान केंद्र के वरीय वैज्ञानिक सह प्रधान, सभी कृषि कॉलेजों के प्राचार्य सहित कई वैज्ञानिक और शिक्षक मौजूद रहे।

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular

Recent Comments