Home भागलपुर बिहार में पहली बार फेनो मशीन से शुरू हुई अस्थमा की जांच....

बिहार में पहली बार फेनो मशीन से शुरू हुई अस्थमा की जांच….

रिपोर्ट – सैयद ईनाम उद्दीन

सिल्क टीवी/भागलपुर (बिहार) : एलर्जी होने का कोई निश्चित मौसम नहीं होता है, लेकिन गर्मियों में तेज धूप और उमस के कारण एलर्जी के मामले काफी बढ़ जाते हैं। डॉक्टरों के अनुसार अस्थमा के लिए स्पायरोमेट्री जांच की जाती है, लेकिन कई बार जिन मरीज में एलर्जी के लक्षण होते हैं, उनमें श्वांस की नलियों में एयरवे इन्फ्लामेशन रहता है। जो आगे जाकर अस्थमा में परिवर्तित हो जाता है।

लेकिन अस्थमा टेस्ट की नई मशीन फेनो इस स्थिति में आने से पहले ही मरीज की पहचान कर लेती है, जिससे समय पर इसका उपचार शुरू किया जा सकता है। इधर बिहार के भागलपुर जिला में पहली बार 06 से 70 साल के व्यक्तियों के एलर्जी टेस्ट की मशीन आ चुकी है। जिसका उद्घाटन शुक्रवार को पटल बाबू रोड स्थित अंगिका चेस्ट एंड एलर्जी क्लिनिक एंड रिसर्च सेंटर में आईएमए के जिला अध्यक्ष डॉ. संदीप लाल, डॉ. डी.पी. सिंह, डॉ. मृत्युंजय कुमार चौधरी, डॉ. शांतनु घोष, डॉ. एसपी सिंह और डॉ. विनय कुमार झा ने संयुक्त रूप से किया।

इस दौरान टेक्नीशियन अरुण कुमार, श्याम सुंदर प्रसाद और इंद्रजीत कुमार ने चिकित्सकों को बताया कि किस प्रकार फेनो टेस्ट, स्कीन टेस्ट, पीएफटी और बल्ड टेस्ट से अस्थमा की पहचान होती है। मौके पर आईएमए के जिला अध्यक्ष ने भी नई मशीन से अस्थमा की जांच कराई। वहीं डॉ. डीपी सिंह ने कहा कि अंगिका चेस्ट एंड एलर्जी क्लिनिक एंड रिसर्च सेंटर में 50 से ज्यादा फूड और फंगस से होने वाली एलर्जी का टेस्ट किया जा रहा है।

उन्होंने बताया कि दमा सांस से जुड़ी बीमारी है, जिसमें मरीज को सांस लेने में काफी तकलीफ होती है। लेकिन एलर्जी टेस्ट इस बात की पुष्टि कर सकता है कि आपको किस चीज से एलर्जी होती है। डॉक्टर ने बताया कि अस्थमा परागकणों, पशुओं, धूल, गंदगी, कॉकरोच और कुछ केमिकल्स के शरीर के अंदर जाने से होता है। स्वास्थ्य विशेषज्ञों ने बताया कि जब शरीर का इम्युन सिस्टम कुछ भी खाने या पीने के सामान को असामान्य तरीके से प्रतिक्रिया देता है तो उसे फूड एलर्जी कहते हैं।

इस वजह से कई लोगों को ओरल एलर्जी सिंड्रोम की परेशानी देखने को मिलती है जबकि गंभीर स्थिति में फूड एलर्जी जानलेवा भी साबित होती है। इसलिए लोगों को एलर्जी की जांच जरूर करवानी चाहिए। मौके पर सैयद जीजाह हुसैन समेत चिकित्सा क्षेत्र से जुड़े कई लोग मौजूद रहे।

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular

Recent Comments