अपराधबिहार

बिहार के विभिन्न जिलों में जहरीली शराब से हो रही मौत का सिलसिला जारी, नीतीश सरकार और प्रशासन की सफल शराबबंदी के दावे की की खुली पोल….

रिपोर्ट – रवि शंकर सिन्हा /सुमित शर्मा

सिल्क टीवी भागलपुर (बिहार) : बिहार की नीतीश सरकार आए दिन शराबबंदी का ढोल पीटते हुए अपनी सफलता का राग अलापते नहीं थकती है, जबकि

सरकार का पूरा तंत्र शराबबंदी को सफल बनाने में जुटा हुआ है। बात अगर जिला स्तर पर की जाए तो जिले के डीएम हो या एसएसपी या फिर कोई अन्य अधिकारी,

सरकार ने सभी की पहली प्राथमिकता शराबबंदी को सफल बनाने की तय कर दी है, लेकिन पिछले कुछ माह में जहरीली शराब से हुई मौत और लगातार जब्त हो रहे

शराब की बड़ी खेप ने मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के दावे की हवा निकाल दी है। शराबबंदी के नाम पर की जा रही कार्रवाई और शराब माफिया द्वारा धड़ल्ले से फल फूल रहे

कारोबार प्रशासन की कार्यशैली और मंशा पर प्रश्न चिन्ह खड़ा करती है। कहने को तो शराबबंदी के नाम पर पुलिस और उत्पाद विभाग की टीम छापेमारी कर

रोजाना नशेड़ियों और शराब तस्करों की गिरफ्तारी करती है, लेकिन इसके बावजूद सूबे के किसी ना किसी जिले में जहरीली शराब पीने से मौत की खबर चर्चाओं में बनी हुई है,

जिसको लेकर विपक्षी पार्टियों ने भी सरकार के खिलाफ मोर्चा खोल दि या है। ताजा मामला बिहार के भागलपुर जिले का है जहां होली पर जहरीली शराब पीने से अब तक

कई लोगों की जान जा चुकी है। जिले के विश्वविद्यालय थाना क्षेत्र और पुलिस जिला नवगछिया बिहपुर के नारायणपुर भवानीपुर ओपी थाना क्षेत्र से जहरीली शराब पीने के कारण हुई मौत का आंकड़ा लगातार बढ़ता जा रहा है।

रविवार के दिन विश्वविद्यालय थाना क्षेत्र में जहरीली शराब पीने से चार लोगों की मौत हो गई, जबकि इससे पहले भी भागलपुर में जहरीली शराब पीने से चार लोगों की मौत हो गई है।

हालांकि सरकार और जिला प्रशासन हमेशा की तरह इस बार भी मौत के कारणों की प्रशासनिक पुष्टि करने से बचती दिखाई दे रही है। सच्चाई चाहे जो भी हो,

लेकिन इस बात को बिलकुल भी नाकारा नहीं जा सकता है की बिहार में जहरीली शराब पीने से लोगों की मौत हो रही है, जिसे छिपाने की कोशिश सरकारी तंत्र न जाने किस क्रांतिकारी सोच के तहत कर रही है।

भागलपुर में जहरीली शराब से मौत का शिकार हुए लोगों में भागलपुर साहेबगंज निवासी 50 वर्षीय विनोद राय, स्व. सुरेश यादव का 45 वर्षीय पुत्र संदीप यादव,

स्व. प्रदीप यादव उर्फ कैली यादव का 25 वर्षीय पुत्र मिथुन कुमार और कजरैली थाना क्षेत्र के मोदीनगर निवासी रंजीत यादव का 34 वर्षीय पुत्र नीलेश कुमार शामिल है।

बताया जा रहा है कि शराब पीने के बाद इन लोगों की हालत बिगड़ने लगी, जिसके बाद इलाज के लिए इन सभी को भागलपुर जवाहरलाल नेहरू मेडिकल कॉलेज अस्पताल मायागंज में भर्ती कराया गया, जहां

इलाज के दौरान मौत हो गई। इधर घटना के बाद आक्रोशित ग्रामीणों ने साहेबगंज चौक जाम कर जमकर प्रदर्शन किया, जिसके बाद जिले के वरीय अधिकारी और पुलिस प्रशासन की टीम ने लोगों को मामले की जांच के आधार पर उचित कार्रवाई करने के साथ किसी भी दोषी को नहीं बक्शे जाने का भरोसा दिया है। इसके अलावा बिहार के मधेपुरा और बांका से भी जहरीली शराब से मौत की खबर आ रही है, जिसमें लगभग 11 लोगों की मौत होने की सूचना है, जबकि दर्जनों लोगों का इलाज चल रहा है। हालांकि मामले की गंभीरता को देखते हुए जिलाधिकारी सुब्रत कुमार सेन भी शाम के वक्त घटना स्थल पर पहुंचे और स्थिति का जायजा लेकर उचित और हर संभव पहल करने की बात कही। इससे पूर्व साहेबगंज में सदर एसडीओ धनंजय कुमार, सिटी डीएसपी प्रकाश कुमार, लॉ एंड आर्डर डीएसपी डॉ. गौरव कुमार, नाथनगर बीडीओ अंतिमा कुमारी और सीओ स्मिता झा के अलावा काफी संख्या में विभिन्न थानों के पुलिस अधिकारी, जवान एवं अर्धसैनिक बल के जवान समेत भारी तादाद में आसपास के लोग मौजूद थे।              

Silk Tv

Silk TV पर आप बिहार सहित अंगप्रदेश की सभी खबरें सबसे पहले देख सकते हैं !

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button