Home भागलपुर बढ़ती महंगाई के खिलाफ वामदलों के आह्वान पर चलाया गया जन प्रतिरोध...

बढ़ती महंगाई के खिलाफ वामदलों के आह्वान पर चलाया गया जन प्रतिरोध अभियान, सभी आवश्यक वस्तुओं के कीमत वृद्धि पर लगाम लगाने की सरकार से की मांग…

रिपोर्ट – रवि शंकर सिन्हा

सिल्क टीवी, भागलपुर (बिहार) : कोरोना महामारी के दौर में लगातार बढ़ती महंगाई के खिलाफ वामदलों के आह्वान पर जन प्रतिरोध अभियान चलाया गया। इसको लेकर बुधवार को भाकपा माले ने भागलपुर कलेक्ट्रेट पर विरोध प्रदर्शन किया। कोविड नियमों का पालन करते हुए झंडे बैनर और मांग पट्टिकाओं के साथ डीएम कार्यालय के समक्ष जुटे कार्यकर्ताओं ने महंगाई के खिलाफ केंद्र और राज्य सरकार के खिलाफ आक्रोश व्यक्त किया। विरोध प्रदर्शन का नेतृत्व भाकपा-माले के राज्य कमिटी सदस्य एस के शर्मा, जिला सचिव बिंदेश्वरी मंडल और नगर प्रभारी सह ऐक्टू के राज्य सचिव मुकेश मुक्त ने किया। इस दौरान एस के शर्मा ने कहा कि कोरोना और लॉकडाउन के तबाही भरे दौर में आम मेहनतकशों की क्रय शक्ति काफी कमजोर हो गयी है और भूख का भूगोल लगातार विस्तृत होता जा रहा है। जनता की क्रय शक्ति बढ़ाने की बजाय मोदी सरकार ने खाद्य सामग्रियों, रसोई गैस, पेट्रोल, डीजल आदि की कीमतों को लगातार बढ़ाकर उनके जीवन को और भी गहरे संकट में डाल दिया है। वहीं मुकेश मुक्त ने कहा कि कोविड का नाजायज फायदा उठाकर मोदी सरकार जनता को लूट रही है और इसी दौरान अपने चहेते पूंजीपतियों और आद्योगिक घरानों के लाखों करोड़ रुपये माफ कर उसके मुनाफे को बढ़ाने का काम कर रही है। साथ ही पेट्रोल, डीजल और रसोई गैस की बेतहाशा मूल्य वृद्धि वापस लेने, खाद्य सहित सभी आवश्यक वस्तुओं और दवाओं की कीमत को नियंत्रित करने, एवं कालाबाजारी और जमाखोरी पर रोक लगाने की मांग सरकार से की। इधर, भाकपा-माले के नगर प्रभारी सह ऐक्टू के राज्य सचिव मुकेश मुक्त के नेतृत्व एक प्रतिनिधिमंडल ने प्रधानमंत्री, भारत सरकार, मुख्यमंत्री और बिहार सरकार के नाम मांगों से सम्बंधित एक ज्ञापन भागलपुर जिलाधिकारी कार्यालय को सौंपा। मांगपत्र में पेट्रोल, डीजल एवं रसोई गैस की बेतहाशा मूल्य वृद्धि वापस लेने, खाद्य सहित सभी आवश्यक वस्तुओं एवं दवाओं की कीमत को नियंत्रित करने, कालाबाजारी और जमाखोरी पर रोक लगाने, कोविड काल में बेकार हुए लोगों सहित सभी बेरोजगारों के लिए रोजगार की व्यवस्था करने और इनकम टैक्स के दायरे से बाहर के सभी परिवारों को अगले 6 महीने तक सात हज़ार पांच सौ रूपये प्रतिमाह गुजारा भत्ता देने के साथ प्रति व्यक्ति के दर से 10 किलो चावल-गेंहू के अलावा दाल, तेल समेत आवश्यक खाद्य सामग्री देने की मांग शामिल है। मौके पर सुरेश प्रसाद साह, रेणु देवी, अमर कुमार, मनोज कृष्ण सहाय समेत कई लोग मौजूद रहे। 

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular

Recent Comments