Home अपराध फरियादियों से मिलने दफ्तर से बाहर आए SSP बाबू राम, लोगों के...

फरियादियों से मिलने दफ्तर से बाहर आए SSP बाबू राम, लोगों के बीच खड़े होकर सुनी समस्याएं, बोले नहीं होगा अन्याय

रिपोर्ट – सैयद ईनाम उद्दीन

सिल्क टीवी/भागलपुर (बिहार) : जमीन पर अवैध कब्जा हो, अपराधियों की दबंगई या फिर थाने में फरियाद की अनसुनी करना। एसएसपी बाबू राम के संज्ञान में मामला आया तो गाज गिरनी तय है। पिछले 10 दिनों में जिस तरह से भागलपुर में एक्शन हुए हैं, उससे पुलिस महकमे में हलचल मच गई है।

फरियादियों की शिकायत सुनते एसएसपी बाबू राम

वहीं फरियादियों के मन में न्याय की उम्मीद भी जगी है। इसी कड़ी में बुधवार को एसएसपी दफ्तर में अलग ही नजारा देखने को मिला। जब एसएसपी खुद लोगों की शिकायतें सुनने के लिए अपने कक्ष से बाहर आ गए। इस दौरान ऑफिस के बाहर ही खड़े होकर बाबू राम ने कार्यालय में आने वाले फरियादियों की समस्याओं को गंभीरता से सुना और उनकी समस्याओं के निस्तारण के लिए समय सीमा के भीतर संबन्धित एसएचओ को आवश्यक आदेश-निर्देश दिए।

वहीं आईपीएस बाबू राम का ये रूप देख हर कोई हक्का बक्का था। बता दें कि बीते 3 जनवरी को भागलपुर जिला की कमान बाबू राम ने संभाली है। अपनी जिम्मेदारी संभालते ही एसएसपी ने साफ़ कर दिया था कि वे जिले में बेटा और अभिभावक बनकर काम करेंगे। ताकि लोगों के मन में पुलिस की छवि और बेहतर बन सके।

एसएसपी का मानना है कि अगर पुलिस अच्छा व्यवहार करेगी तभी आम जनता का उनपर भरोसा होगा। इन्हीं बातों को लेकर एसएसपी एक्शन में दिख रहे हैं। वहीं दफ्तर में सभी फरियादियों की फरियाद सुनने के बाद पुलिस कप्तान ने खुद फोन पर बात कर संबंधित थानेदार को समस्याओं के निदान करने का सख्त निर्देश दिया। साथ ही लोगों को भरोसा दिलाया कि उनके साथ अन्याय नहीं होने दिया जाएगा।

इधर एसएसपी के दरबार में मामला आते ही उस पर कार्रवाई के निर्देश दिए जा रहे हैं। खुद एसएसपी त्वरित कार्रवाई कर रहे हैं। बाबू राम का सीधा संदेश है कि पीड़ित व्यक्ति को न्याय मिलना चाहिए। शायद यही वजह है कि वरीय पुलिस अधीक्षक जांच के साथ सीधे कार्रवाई के लिए पुलिस पदाधिकारियों को निर्देशित कर रहे हैं।

भागलपुर एसएसपी ने स्पष्ट कर दिया है कि थानेदार को गश्ती गाड़ी पर बैठकर सिर्फ भ्रमण करने से काम नही चलेगा, बल्कि गाड़ी से नीचे उतरना होगा, वाहन चेकिग, संदिग्धों को देखते ही दबोचने और बाजार-हाट पर पैनी नजर रखनी होगी। तभी अपराध और अपराधियों पर शिकंजा कसा जा सकता है। एसएसपी बाबू राम ने कहा कि छोटे विवाद ही कई बार बड़ी घटना का कारण बन जाते हैं। इसलिए ऐसे विवादों को गंभीरता से लेने की जरूरत है। उन्होंने कहा कि प्रत्येक शनिवार को थाना में जनता दरबार लगाकर विवादों को सुलझाने का निर्देश एसएचओ को दिया गया है।

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular

Recent Comments