Home बिहार निजीकरण के विरोध में बैंक कर्मियों ने किया प्रदर्शन,16 दिसंबर से दो...

निजीकरण के विरोध में बैंक कर्मियों ने किया प्रदर्शन,16 दिसंबर से दो दिन की हड़ताल

रिपोर्ट – सैयद ईनाम उद्दीन

सिल्क टीवी/भागलपुर (बिहार) : यूनाइटेड फोरम ऑफ बैंक यूनियंस ने संसद के वर्तमान शीतकालीन सत्र में लाए जाने वाले बैंकिंग विधेयक के खिलाफ हड़ताल पर जाने का फैसला लिया  है। सार्वजनिक क्षेत्र के बैंकों ने निजीकरण के विरोध में 16 और 17 दिसंबर को हड़ताल का निर्णय लिया है।

गौरतलब हो कि काफी समय पहले से ही बैंक कर्मचारियों द्वारा इस कानून का विरोध किया जा रहा है।  सरकार ने फरवरी 2021 के बजट सत्र में दो सार्वजनिक क्षेत्र के बैंकों के निजीकरण का प्रस्ताव लाया था। इस प्रस्ताव के विरोध में यूनाइटेड फोरम ऑफ बैंक यूनियन्स ने 15 एवं 16 मार्च, 2021 को दो दिन का अखिल भारतीय हड़ताल किया था। इस हड़ताल के बावजूद सरकार इस शीतकालीन सत्र में बैंकिंग कानून में संशोधन का बिल ला रही है। इधर प्रस्ताव के विरोध में यूनाइटेड फोरम ऑफ बैंक यूनियन्स ने त्वरित आंदोलन का निर्णय लिया। जिसके तहत मंगलवार को भागलपुर में बैंक ऑफ इंडिया/इंडियन बैंक आंचलिक कार्यालय के नीचे जिले के बैंक कर्मियों  प्रदर्शन और सभा का आयोजन किया।

प्रदर्शन कर रहे हैं बैंक कर्मियों ने बताया कि सरकार को सार्वजनिक क्षेत्र के बैंकों के निजीकरण का बिल वापस लेना होगा। साथ ही बताया कि हड़ताल से ग्राहकों और आम लोगों को थोड़ी परेशानी जरूर होगी लेकिन हम सरकार की गलत नीतियों से बाध्य होकर, अपना वेतन कटौती कर इस हड़ताल में जा रहे हैं। अरविंद रामा ने बताया कि यह संघर्ष आम लोगों के लिए है। बैंक बचेगा तो देश बचेगा और देश की आर्थिक स्थिति भी सुरक्षित रहेगी। प्रदर्शन में सुनील चंद्र पाठक, एपी सिंह, गोपेश कुमार ,नीरज कुमार सिंह, ओम प्रकाश तिवारी, पंकज, अभय, सोयबो,विकास मुन्ना, राकेश, मंतोश, ऋतंभरा, शिप्रा, संजय सिंह, हरे संगीता, मुकेश भगत, राजेश, अतीत,राहुल,अमिता पांडेय, ब्रजेश, शशि, तारकेश्वर प्रसाद समेत कई कर्मी और संगठन से जुड़े  पदाधिकारी मौजूद थे।

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular

Recent Comments