भागलपुरस्वास्थ्य

डेंगू के डंक से जिले में लोग परेशान, स्वास्थ्य विभाग ने किया अलर्ट जारी

रिपोर्ट – रवि शंकर सिन्हा/ईशु राज सिल्क टीवी, भागलपुर (बिहार) :जिले में डेंगू के बढ़ते संक्रमण को देखते हुए स्वास्थ्य विभाग अलर्ट मोड में है, और इसके बचाव और एवं नियंत्रण के लिए सभी आवश्यक तैयारी कर ली गई है। इसके लिए जवाहरलाल नेहरू चिकित्सा महाविद्यालय एवं अस्पताल के एमसीएच वार्ड में 30 बेड चिन्हित किया गया है, जहां डेंगू के इलाज के लिए पर्याप्त मात्रा में पैरासिटामोल, आईवी प्लाइवुड, बी कांप्लेक्स, ओआरएस और एंटीबायोटिक दवा उपलब्ध है। साथ ही सरकार और स्वास्थ्य विभाग के निर्देश पर मरीजों को आवश्यकता अनुसार प्लेटलेट्स चढाने की भी व्यवस्था की गई है।

भागलपुर मायागंज अस्पताल में एलिजा जांच के माध्यम से भी डेंगू की जांच की जा रही है, जबकि जयप्रकाश नारायण सदर अस्पताल में डेंगू मरीजों के इलाज के लिए 10 बेड का डेंगू वार्ड तैयार कराया गया है। इसके अलावा सभी शहरी प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र पर रैपिड डेंगू जांच की पर्याप्त व्यवस्था उपलब्ध है, और नवगछिया एवं कहलगांव अनुमंडलीय अस्पताल में 5-5 बेड का डेंगू वार्ड तैयार किया गया है, जहां जांच और इलाज जारी है। साथ ही जांच के लिए अनुमंडलीय और रेफरल अस्पताल के अलावा प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र एवं सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र में डेंगू के जांच की सुविधा उपलब्ध कराई गई है, जहां चिकित्सक की सलाह से डेंगू किट के माध्यम से जांच की जाती है। वहीं इसको लेकर भागलपुर सदर अस्पताल में नियंत्रण कक्ष बनाया गया है, जहां एक टोल फ्री नंबर 18 00 3 4 5 6 6 0 6 भी जारी किया गया है, जिस पर लोग संपर्क कर जरुरी सूचना एवं जानकारी साझा कर सकते हैं। इधर डेंगू के पांव पसारने के कारण भागलपुर जिला प्रशासन के साथ अस्पताल प्रशासन भी काफी सक्रिय हो गया है। इसको लेकर भागलपुर जेएलएनएमसीएच के अधीक्षक डॉ. असीम कुमार दास ने बताया कि मायागंज अस्पताल में डेंगू मरीज के लिए 30 का वार्ड तैयार किया गया है जहां फ़िलहाल 17 मरीज एडमिट हैं और अस्पताल में मरीजों के लिए पर्याप्त मात्रा में दवा एवं मच्छरदानी के साथ खाने-पीने की सुविधा उपलब्ध है। उन्होंने कहा कि डेंगू का मच्छर साफ़ और स्थिर पानी में पलता है, इसलिए कहीं भी पानी जमा नहीं होने दें। साथ ही डॉ. असीम कुमार दास ने कहा कि डेंगू के लक्षण मिलते ही तुरंत चिकित्सक से संपर्क करना जरुरी है और सरकारी अस्पतालों में इसके लिए निशुल्क सुविधा उपलब्ध है। वहीं डेंगू के लक्षण को लेकर उन्होंने बताया कि अचानक तेज बुखार, आंखों के पीछे दर्द, सिर और बदन दर्द या जी मिचलाने की शिकायत प्रमुख है, और इसे नजरअंदाज नहीं करना चाहिए। साथ ही इससे बचाव के लिए विशेष सावधानी बरतने की बात करते हुए उन्होंने कहा कि घर और आसपास के खुले मैदानों, बर्तन, गमले, नारियल के खोल, टायर और खुले टंकी में पानी नहीं जमने दें।

Silk Tv

Silk TV पर आप बिहार सहित अंगप्रदेश की सभी खबरें सबसे पहले देख सकते हैं !

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button