Home भागलपुर टीबी की रोकथाम के लिए लगा निःशुल्क जांच शिविर

टीबी की रोकथाम के लिए लगा निःशुल्क जांच शिविर

रिपोर्ट – सैयद ईनाम उद्दीन

सिल्क टीवी/भागलपुर (बिहार) : अकसर टीबी का समय पर पता नहीं चल पाता है। इसकी वजह है कि लोग इसके बारे में जागरूक नहीं हैं और इसके लक्षणों को लंबे समय तक नजरअंदाज करते रहते हैं। ऐसे में लोगों को टीबी के बारे में जानकारी होना बेहद जरूरी है। इसी को ध्यान में रखते हुए बिहार स्वास्थ्य विभाग, के. एच.पी.टी, केयर इंडिया एवं जिला यक्षमा केंद्र के सहयोग से टीबी जन आंदोलन के तहत गुरुवार को पुनरीक्षित राष्ट्रीय यक्ष्मा नियंत्रण कार्यक्रम, मायागंज, भागलपुर में निःशुल्क टीबी जांच शिविर का आयोजन हुआ। डॉक्टरों और विशेषज्ञों द्वारा टीबी की आधुनिक जांच एवं उपचार के संदर्भ में लोगों को विशेष जानकारी दी गई।


डॉ डी. पी. सिंह (head of the department टीबी और चेस्ट डिपार्टमेंट, भागलपुर) ने लोगों से अपील किया कि अगर आपके घर में आपके आसपास कोई भी टीबी के लक्षण का व्यक्ति हो तो तुरंत उसकी जांच नजदीकी स्वास्थ्य केंद्र में कराएं। टीवी का इलाज संभव है और मरीज अगर नियमित और संपूर्ण इलाज करें तो वह पहले जैसा फिर से स्वस्थ जीवन व्यतीत कर सकता है।डॉ शांतनु घोष ( एसोसिएट प्रोफेसर, टीबी और चेस्ट डिपार्टमेंट, भागलपुर) ने लोगों को टीवी के लक्षण के बारे में बताया।2 हफ्ते से ज्यादा खांसी , बुखार आना, वजन में तेजी से कमी आना सीने में दर्द या खखार में खून आना यह टीवी के लक्षण है इसे नजरअंदाज बिल्कुल ना करें। ट्यूबरकोलॉसिस एक संक्रामक रोग है। टीबी का बैक्टीरिया सांस से फैलता है। यह छींकने या खांसने पर मुंह से निकले कणों से भी फैलता है। एक समय था जब अपने देश में टीबी लाइलाज बीमारी थी लेकिन अब इसका इलाज संभव है। सही समय पर पूरा इलाज कराने से टीबी पूरी तरह से ठीक हो जाती है। ऐसे में टीबी डायग्नॉज होने पर घबराने की जरूरत नहीं है।


टीबी का इलाज पूरी तरह मुमकिन है। सरकारी अस्पतालों और डॉट्स सेंटरों में इसका फ्री इलाज होता है। सबसे जरूरी है कि इलाज टीबी के पूरी तरह ठीक हो जाने तक चले। बीच में छोड़ देने से बैक्टीरिया में दवाओं के खिलाफ प्रतिरोधक क्षमता विकसित हो जाती है और इलाज काफी मुश्किल हो जाता है क्योंकि आम दवाएं असर नहीं करतीं।
इस जांच शिविर में Care India se Dr. Ninkush Aggarwal(DTL) के.एच.पी.टी संस्था से आरती झा (District lead), मोहम्मद फैयाज खान, सुमित कुमार( CC), टीबी डिपार्टमेंट से डी.पी.सी. अभिषेक, मायागंज स्वास्थ्य केंद्र, लैब टेक्नीशियन इंद्रजीत आदि उपस्थित रहे और लोगों को जागरूक किया।

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular

Recent Comments