बिहारशिक्षा

जीवनदायिनी है विज्ञान : डॉ फारूक अली

रिपोर्ट – सैयद ईनाम उद्दीन

सिल्क टीवी/भागलपुर (बिहार) : राष्ट्रीय विज्ञान दिवस (28 फरवरी) के उपलक्ष्य में सोमवार को पीजी होम साइंस- फूड एण्ड न्यूट्रीशन विभाग और न्यूट्रीशन सोसाइटी ऑफ इंडिया (एनएसआई) भागलपुर चैप्टर के संयुक्त तत्वावधान में एक कार्यक्रम का आयोजन किया गया।


कार्यक्रम के मुख्य अतिथि व मुख्य वक्ता जेपी यूनिवर्सिटी छपरा के कुलपति व एनएसआई भागलपुर चैप्टर के कन्वेनर डॉ फारूक अली थे।विशिष्ट अतिथि समाजसेवी प्रकाश चन्द्र गुप्ता और टीएमबीयू के पीआरओ डॉ दीपक कुमार दिनकर थे।


जय प्रकाश विश्वविद्यालय छपरा के कुलपति प्रो. फारूक अली ने कहा कि विज्ञान और तकनीक के समन्वय से ही देश का विकास और प्रगति किया जा सकता है। सतत विकास की चर्चा करते हुए उन्होंने कहा की साइंस के कारण ही हम सस्टेनेबल डेवलपमेंट कर रहे हैं। विज्ञान हमारे जीवन में काफी महत्व रखता है। भारत की धरती पर कई महान वैज्ञानिकों ने जन्म लिया है और इन महान वैज्ञानिकों की बदलौत ही भारत ने विश्व भर में विज्ञान के क्षेत्र में अपना एक अलग ही पहचान बनाया है।

विज्ञान के जरिये ही आज हमने सभी क्षेत्रों में नई तकनीक का अविष्कार किया है। विज्ञान जीवनदायिनी है। उन्होंने अपने संबोधन में स्थानीय स्तर पर उत्पादित होने वाले खाद्य पदार्थों के महत्व और गुणों की भी जानकारी विभाग के छात्राओं को दिया। डॉ अली ने कहा कि विज्ञान के प्रति जागरूकता देश की प्रौद्योगिकी को विकसित करने का महत्वपूर्ण चरण है।


कुलपति डॉ फारूक अली ने महान वैज्ञानिक सीवी रमन के कृतित्व को भी याद किया। उन्होंने कहा कि वर्ष 2022 का थीम ‘सतत भविष्य के लिए विज्ञान और प्रौद्योगिकी में एकीकृत दृष्टिकोण’ है।

समाजसेवी प्रकाश चन्द्र गुप्ता ने कहा कि विज्ञान हमें नई राह दिखाता है। विज्ञान की मदद से ही हम अंतरिक्ष में पहुंचने से लेकर कम्प्यूटर, रोबोट जैसी चीजें बनाने में आज सफल हुए हैं। उन्होंने कहा कि हमारे दैनिक जीवन में विभिन्न वैज्ञानिक आविष्कारों कि महत्ता बताना भी इस दिन को मनाने का एक महत्वपूर्ण उद्देश्य है।

कुलपति प्रोफेसर फारूक अली


कार्यक्रम की अध्यक्षता पीजी गृह विज्ञान विभाग की हेड डॉ ममता कुमारी ने की। उन्होंने कहा कि आम जनों के बीच विज्ञान के प्रति जागरूकता उत्पन्न करने के उद्देश्य से ही प्रत्येक साल 28 फरवरी को राष्ट्रीय विज्ञान दिवस मनाया जाता है। साथ ही उन्होंने विज्ञान दिवस मनाने की औचित्यता पर भी प्रकाश डाला।
टीएमबीयू के पीआरओ व एनएसआई भागलपुर चैप्टर के संयुक्त सचिव डॉ दीपक कुमार दिनकर ने कहा कि आज का युग विज्ञान और सूचना-प्रौद्योगिकी का है। समय के साथ विज्ञान ने भी काफी प्रगति की है। देश के सतत विकास में विज्ञान का अहम योगदान है।

राष्ट्रीय विज्ञान दिवस देश में विज्ञान के निरंतर उन्नति का आह्वान करता है। साइंस और टेक्नोलॉजी ने हमें जीवन जीने की राह आसान और सुलभ कर दी है। कोविड संक्रमण काल में ऑनलाइन शिक्षा, वर्चुअल मोड आदि का उपयोग इसका बेहतरीन उदाहरण है।
संचालन विभाग की शिक्षिका डॉ रेणु रानी जायसवाल कर रही थी। जबकि धन्यवाद ज्ञापन डॉ अंजू सिंह ने की।


मौके पर रविन्द्र प्रसाद साह, गुलफ्शां परवीन, बिभा कुमारी, रश्मि कुमारी, कैलाश कुमार सहित विभाग के प्रथम और चतुर्थ सेमेस्टर के कई छात्र-छात्राएं मौजूद थे। अतिथियों का स्वागत पुष्प गुच्छ भेंट कर किया गया। मौके पर एनएसआई के द्वारा थैला भेंट कर संदेश दिया गया कि वे प्लास्टिक का उपयोग नहीं करेंगे। ताकि पर्यावरण को बचाया जा सके और लोगों को उसके प्रति जागरूक किया जा सके।

Silk Tv

Silk TV पर आप बिहार सहित अंगप्रदेश की सभी खबरें सबसे पहले देख सकते हैं !

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button