Home भागलपुर गांधी विचार विभाग में राष्ट्रीय सेमिनार का हुआ आयोजन, वक्ताओं ने कहा...

गांधी विचार विभाग में राष्ट्रीय सेमिनार का हुआ आयोजन, वक्ताओं ने कहा महात्मा गांधी का जीवन दर्शन अनुकरणीय

रिपोर्ट – सैयद ईनाम उद्दीन

सिल्क टीवी/भागलपुर (बिहार) : तिलकामांझी भागलपुर विश्वविद्यालय के पीजी गांधी विचार विभाग में शनिवार को गांधी जयंती के उपलक्ष्य में युवा चुनौतियाँ और गांधी विषय पर एक दिवसीय राष्ट्रीय सेमिनार का आयोजन किया गया। कार्यक्रम का उदघाटन टीएमबीयू के प्रतिकुलपति प्रो. रमेश कुमार ने किया। राष्ट्रीय सेमिनार की अध्यक्षता प्रख्यात गांधीवादी चिंतक पद्मश्री डॉ. रामजी सिंह ने ऑनलाइन मोड में की।

जबकि विषय प्रवेश और अतिथियों का स्वागत गांधी विचार विभाग के विभागाध्यक्ष प्रो. विजय कुमार ने किया। इसके पूर्व कार्यक्रम की शुरुआत गांधी विचार विभाग परिसर में स्थित बापू की आदमकद प्रतिमा पर पुष्पांजली से हुआ। सेमिनार को बिहार, दिल्ली, उत्तरप्रदेश, महाराष्ट्र सहित कई राज्यों के वक्ताओं ने भी संबोधित किया। ऑनलाइन मोड में सेमिनार का उदघाटन करते हुए तिलकामांझी भागलपुर विश्वविद्यालय के प्रतिकुलपति प्रो. रमेश कुमार ने कहा कि महात्मा गांधी का जीवन दर्शन अनुकरणीय है।

गांधी के विचारों से नई पीढ़ी खासकर युवाओं को सीख और प्रेरणा लेनी चाहिए। उन्होंने कहा कि मोहनदास करमचंद गांधी गाँधी के नाम से जन्म लेने वाले महान शख्स बापू और राष्ट्रपिता के नाम से प्रसिद्ध हुए। विशिष्ट अतिथि जेपी विश्वविद्यालय छपरा के कुलपति डॉ. फारूक अली ने ऑनलाइन मोड से कार्यक्रम को संबोधित करते हुए कहा कि गांधी विचार की प्रासंगिकता सदैव रहेगी। वहीं जेएनयू नई दिल्ली के सोशल साइंस के पूर्व अध्यक्ष प्रो. आनंद कुमार ने कहा कि इस समय दुनिया में गांधी की ललकार चारों ओर सुनाई पड़ रही है। गांधी कर्मयोगी का नाम है। गांधीवाद में ही सभी समस्याओं का निदान और युवा चुनौतियों का समाधान निहित है। जबकि टीएमबीयू गांधी विचार विभाग के अध्यक्ष डॉ. विजय कुमार कहा कि धरती का ताप, जनसंख्या का श्राप और पूंजी का पाप आज सर चढ़कर बोल रहा है। सेमिनार के आयोजन सचिव सह टीएमबीयू के जनसम्पर्क पदाधिकारी डॉ. दीपक कुमार दिनकर ने कहा कि गांधी अतीत ही नहीं वर्तमान और भविष्य भी हैं।

गाँधीमार्ग से ही समस्त मानव और मानवता का कल्याण सम्भव है। उन्होंने कहा कि सेमिनार का विषय काफी समीचीन और प्रासंगिक है। डॉ. दिनकर ने कहा कि आज समाज में जो भी विकृतियां और समस्याएँ हैं उसका निराकरण गांधी के विचारों को अपनाकर ही हो सकता है। कार्यक्रम का संचालन सेमिनार के संयोजक और गांधी विचार विभाग के असिस्टेंट प्रोफेसर डॉ. उमेश प्रसाद नीरज कर रहे थे। राष्ट्रीय सेमिनार में गांधी विचार विभाग के शिक्षक डॉ. रीता झा, डॉ. अमित रंजन सिंह, गौतम कुमार, आरएस कॉलेज तारापुर के शिक्षक डॉ. शाहिद रजा जमाल, शिशिर रंजन सिंह, रिसर्च स्कॉलर सहित कई वक्ताओं ने अपने विचार रखे।

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular

Recent Comments