बिहारस्वास्थ्य

कृमि की दवा खाने के बाद स्कूली बच्चे हुए बीमार, लोगों ने एएनएम को बनाया बंधक, हरकत में आया स्वास्थ्य विभाग

रिपोर्ट – रवि शंकर सिन्हा

सिल्क टीवी भागलपुर (बिहार) :विश्व कृमि दिवस को लेकर स्वास्थ्य विभाग के निर्देश पर जिले के सभी अस्पतालों, स्वास्थ्य केंद्रों, आंगनबाड़ी और स्कूलों में एल्बेंडाजोल की दवा खिलाई गयी, जबकि बिहार के कई जिलों से अल्बेंडाजोल दवा खाने के बाद बच्चों के बीमार होने की भी खबर आई।

दरअसल भागलपुर के नाथनगर प्रखंड अंतर्गत मध्य विद्यालय अजमेरीपुर में एल्बेंडाजोल दवा खिलाने के बाद 30 से अधिक बच्चे बीमार हो गए, जिन्हें तत्काल इलाज के लिए नाथनगर रेफरल अस्पताल में भर्ती कराया गया। वहीं बच्चों के बीमार होने से आक्रोशित परिजनों ने स्कूल में जमकर हंगामा किया, और स्कूलों में तोड़फोड़ करते हुए एएनएम रंजीता कुमारी को बंधक बनाकर उसके साथ मारपीट भी की|

, जबकि हंगामा बढ़ता देख विद्यालय के शिक्षक स्कूल छोड़कर भाग गए। इसके बाद डॉक्टरों के साथ स्वास्थ्य विभाग के अधिकारी स्कूल पहुंचकर मामले की जांच में जुट गए। मामले को लेकर बताया जा रहा है कि शुक्रवार की सुबह शिक्षकों के सहयोग से एएनएम द्वारा स्कूल के बच्चों को एल्बेंडाजोल दवा खिलाई गई थी,

जिसके बाद बच्चों को चक्कर और उल्टी आने के साथ तबियत बिगड़ने लगी एवं कई बच्चे बेहोश हो गए। घटना की जानकारी मिलने के बाद डीसीएलआर सदर और नाथनगर बीडीओ, सीओ और डॉक्टरों की टीम स्कूल पहुंची, और एएनएम को ग्रामीणों के गिरफ्त से मुक्त कराने के साथ ही बीमार बच्चों को इलाज के लिए एंबुलेंस से रेफरल अस्पताल भेजा गया, जहां से गंभीर रूप से बीमार बच्चों को बेहतर इलाज के लिए जवाहरलाल नेहरू मेडिकल कॉलेज भेज दिया गया।  

वहीं मुंगेर के बरियारपुर प्रखंड स्थित शाह जुबैर मध्य विद्यालय घोरघट में सुबह करीब 8 बजे विद्यालय के सभी वर्ग के छात्र -छात्राओं को चेतना सत्र के बाद एल्बेंडाजोल की दवा खिलाने के कुछ देर बाद ही बच्चों की तबीयत अचानक खराब होने लगी, और देखते ही देखते कई बच्चे बेहोश हो गए, जबकि कई बच्चों को चक्कर आने लगा।

वहीं दवा खाने के बाद करीब 50 बच्चों के बीमार पड़ने से विद्यालय में अफरा तफरी मच गई, और तुरंत इसकी सूचना   पीएचसी प्रभारी को दी गई। इधर घटना की जानकारी मिलते ही डॉक्टरों की टीम स्कूल पहुंची, और बीमार छात्र-छात्राओं के इलाज में जुट गयी।

हालांकि कुछ बच्चों की तबीयत अधिक खराब हो जाने पर बेहतर इलाज के लिए एंबुलेंस से बरियारपुर पीएचसी पहुंचाया गया, जहां बच्चों का इलाज चल रहा है। बताया जा रहा है कि चेतना सत्र के बाद सभी बच्चों को सुबह 8 बजे दवाई खिलाई गई, |

जो बच्चे सुबह खाना खाकर विद्यालय नहीं आए थे, उनपर अधिक प्रभाव पड़ा, जबकि डॉक्टर दवा खाने के बाद बच्चों के बेहोश और तबियत ख़राब होने के कारणों की भी जाँच कर रहे है। 

Silk Tv

Silk TV पर आप बिहार सहित अंगप्रदेश की सभी खबरें सबसे पहले देख सकते हैं !

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button