Home धर्म काली प्रतिमा विसर्जन के दौरान भागलपुर में दिखी सद्भावना की मिसाल....

काली प्रतिमा विसर्जन के दौरान भागलपुर में दिखी सद्भावना की मिसाल….

नफ़रतों को मिटाने के लिए सौहार्द और प्रेमदीप जरूरी : सैयद शाह हसन

रिपोर्ट – सैयद ईनाम उद्दीन

सिल्क टीवी/भागलपुर (बिहार) : रेशमी शहर भागलपुर ने हमेशा शांति और सद्भाव की मिसाल कायम की है। यूं तो यहां सभी पर्व त्योहार में सद्भाव की झलक मिलती रही है, लेकिन इनमें काली पूजा बेहद खास है। मां काली की पूजा और विसर्जन जुलूस के लिए प्रशासन व्यवस्था बनाता है तो मुस्लिम समाज की भागीदारी सद्भाव बनाने में अहम भूमिका निभाती है।

इसी कड़ी में ख़ानक़ाह पीर दमड़ीया शाह और वक़्फ़ सैयद शाह इनायत हुसैन 159 शाह मार्किट की ओर से काली विसर्जन शोभायात्रा को लेकर जल सेवा शिविर लगाया गया। जिसके जरिए देश में एकता, सौहार्द और सद्भावना का संदेश दिया गया।

बता दें कि भागलपुर में शनिवार की रात से काली विसर्जन शोभायात्रा निकाली गई थी। जिसमें बड़ी संख्या में श्रद्धालु शामिल हुए। इस दौरान खानकाह पीर दमड़ीया शाह मार्केट की ओर से श्रद्धालुओ के बीच बिस्कुट और पानी का वितरण किया गया। वहीं ख़ानक़ाह पीर दमड़ीया के सज्जादानशीन सैयद शाह फखरे आलम हसन ने बताया कि आज इस तरह के समाजसेवा की देश को बेहद ज़रूरत है।

क्योंकि सियासत को भुनाने के लिए देश भर में कहीं न कहीं नफरतों की आंधीयां चल रही हैं। उन्होंने बताया कि ऐसे ज़हरीले वातावरण में मुहब्बत के चराग़ जलाने और प्रेम-दीप के उजाले की ज़रूरत है, जो समाज को नफ़रतों के अंधेरे से बचाकर मुहब्बत के उजाले की तरफ लाए सके। साथ ही कहा कि मुहब्बत के धागे में समाज को जोड़ना वर्तमान समय की मांग है।

सैयद हसन ने कहा कि हम सब को यह स्वीकार करना होगा कि हम सब भारतीय एक परिवार की तरह हैं। तभी समाज में भाईचारा बना रहेगा। साथ ही बताया कि देश का जो माहौल दूषित हुआ है, उसे मुहब्बत की रौशनी के ज़रिए पाटने का काम खानकाहों और मठों की ओर से लगातार किया जा रहा है।

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular

Recent Comments