Home भागलपुर ओरल कैंसर का सबसे बड़ा कारण तम्बाकू का सेवन : डॉ. इज़हारूल

ओरल कैंसर का सबसे बड़ा कारण तम्बाकू का सेवन : डॉ. इज़हारूल

रिपोर्ट – सैयद ईनाम उद्दीन

सिल्क टीवी/भागलपुर (बिहार) : पिछले कुछ वर्षों में जिस रफ्तार से देश में कैंसर रोगियों की संख्या बढ़ी है, उसी गति से इलाज के तरीके भी ढूंढे जा रहे हैं। यही कारण है कि अब कैंसर लाइलाज नहीं रहा। लेकिन समस्या यह भी है कि विश्व में मुंह के कैंसर से पीड़ित लोगों में से एक तिहाई भारत के हैं।

वहीं ओरल कैंसर के बढ़ते मामले को लेकर भागलपुर मुस्लिम हाई स्कूल के समीप मल्टी स्पेशलिटी डेंटल क्लीनिक के दंत एवं मुख रोग विशेषज्ञ से बात की गई। बातचीत के क्रम में डॉ. मो. इज़हारूल इनाम ने बताया कि जिस तरह हम अपनी सेहत का ख़्याल रखने के लिए अलर्ट रहते हैं, ठीक उसी तरह हमें मुंह और दांतों को स्वस्थ रखने की भी ज़रूरत है।

डॉ. इज़हारूल इनाम

डॉ. ने कहा कि दांतों को रोज़ाना ब्रश करना ही काफी नहीं, बल्कि इसकी नियमित जांच भी जरूरी है। वहीं ORO डेंटल केयर के संचालक डॉ. इज़हारूल इनाम ने बताया कि भारत में आज भी एक बड़ी आबादी ऐसी ही जो अपने दांतों को साफ करने के लिए टूथब्रश और टूथपेस्ट का इस्तेमाल नहीं करती।

जिस कारण दांतों में कैविटी हो जाती है और संक्रमण का खतरा भी बना रहता है। डॉक्टर ने बताया कि तम्बाकू का सेवन करने वाले लोगों को माउथ कैंसर होने की संभावना बनी रहती है।

जबकि एल्कोहल या शराब पीने वालों को मुंह के कैंसर होने का खतरा अन्य लोगों से 6 फीसद ज्यादा होता है। उन्होंने कहा कि जिन लोगों के परिवार में पहले किसी को कैंसर रहा हो, ऐसे लोगों को भी सतर्क और सावधान रहना चाहिए।

वहीं ORO डेंटल केयर के डॉ. इज़हारूल इनाम बताते हैं कि सभी लोगों को कम से कम 6 माह में मुंह की जांच करानी चाहिए, क्योंकि दांत और मुंह की ज्यादातर समस्याओं का निदान जांच के दौरान किया जा सकता है। साथ ही कहा कि दांत में कोई भी समस्या उत्पन्न हो तो तुरंत चिकित्सक की सलाह लें।

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular

Recent Comments