Home बिहार 38 जिलों में शुरू हुआ कोरोना वैक्सीन का ड्राई रन, एक बार...

38 जिलों में शुरू हुआ कोरोना वैक्सीन का ड्राई रन, एक बार में 25 को लग रहा टीका..

बिहार में कोरोना से लड़ने की पूरी तैयारी है. प्रदेश के 38 जिलों में शुक्रवार को ड्राई रन शुरू हुआ. स्वास्थ्य विभाग ने एक बार में 25 लोगों को टीका लगाने की बात कही है.

बिहार के 38 जिलों के 114 सेंटर पर शुक्रवार को कोरोना वैक्सीन का ड्राई रन शुरू हुआ. यह वैक्सीन के दूसरे फेज का ड्राई रन है. वैक्सीनेशन का ड्राई रन पटना के पीएमसीएच, एनएमसीएच, पारस और खगौल में किया जा रहा है. स्वास्थ्य विभाग के मुताबिक, सभी जगहों पर 25-25 लोगों को वैक्सीन की डोज दी जा रही है. कोरोना की वैक्सीन का इंतज़ार अब लगभग खत्म हो गया है. सरकार ने कोरोना की दो वैक्‍सीन ऑक्सफोर्ड यूनिवर्सिटी और एस्ट्रेजेनेका की कोविशील्ड और भारत बायोटेक की कोवैक्सीन को इंमरजेंसी इस्तेमाल के लिए मंजूरी दे दी है. इसके अलावा देश के कई राज्यों में इन दिनों वैक्सीन लगाने को लेकर ड्राई रन भी किया जा रहा है. शुक्रवार को भी देश के कई राज्यों में ड्राई रन किया जा रहा है. उम्मीद की जा रही है कि अगले हफ्ते से देश भर में वैक्सीन लगने का काम शरू हो जाएगा. केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय ने राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों से कहा है कि उन्हें कोविड-19 टीके की पहली खेप जल्दी ही मिल सकती है और इसे लेने करने के लिए वे तैयार रहें. मंत्रालय ने 19 राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों को इसको लेकर चिट्ठी भी लिखी है. जिन राज्यों में सबसे पहले कोरोना की वैक्सीन मिल सकती है वो हैं- आंध्र प्रदेश, असम, बिहार, छत्तीसगढ़, दिल्ली, गुजरात, हरियाणा, झारखंड, कर्नाटक, केरल, मध्य प्रदेश, महाराष्ट्र, ओडिशा, पंजाब, राजस्थान, तमिलनाडु, तेलंगाना, उत्तर प्रदेश और पश्चिम बंगाल. बाकी 18 राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों को टीका उनके संबंधित सरकारी मेडिकल डिपो से मिलेगा. इनमें अंडमान निकोबार द्वीप समूह, अरूणाचल प्रदेश, चंडीगढ़, दमन और नागर हवेली, दमन और दीव, गोवा, हिमाचल प्रदेश, जम्मू कश्मीर, लद्दाख, लक्षद्वीप, मणिपुर, मेघालय, मिजोरम, नगालैंड, पुडुचेरी, सिक्किम, त्रिपुरा और उत्तराखंड शामिल हैं.

अलग-अलग फेज में वैक्सीनेशन..

कोरोना की वैक्सीन सबसे पहले देश के 1 करोड़ हेल्थ वर्कर्स को दी जाएगी. इसमें सरकारी और प्राइवेट दोनों हॉस्पिटल के कर्मचारी शामिल हैं. हेल्थ वर्कर्स को भी अलग-अलग कैटेगरी के तहत बांटा गया है- फ्रंट लाइन, ICDS, नर्स, सुपरवाइजर, मेडिकल ऑफिसर, पारामेडिकल स्टाफ, स्पोर्ट स्टाफ और स्टूडेंट. दूसरी खेप में केंद्र और राज्य सरकार के फ्रंटलाइन कर्मचारी होंगे. इसके बाद 60 साल से ज्यादा उम्र के लोगों को वैक्सीन दी जाएगी.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular

शास्त्रीय संगीतकार उस्ताद गुलाम मुस्तफा खान नहीं रहे, पीएम मोदी ने जताया शोक ..

शास्त्रीय संगीतकार उस्ताद गुलाम मुस्तफा खान की पुत्रवधू ने उनके निधन की जानकारी दी..शास्त्रीय संगीतकार उस्ताद गुलाम मुस्तफा...

भागलपुर: कचहरी रोड पर अंडरपास और सेंट टेरेसा स्कूल के पास बनेगा एफओबी, इको पार्क भी..

भागलपुर में अंडरपास और फुटओवर ब्रिज निर्माण को हरी झंडी डीपीआर भेजा गया मुख्यालय। डीपीआर को सरकार की मंजूरी मिलने के बाद...

रूपेश सिंह हत्याकांड: पप्पू यादव ने पूर्णिया के डीएम पर लगाए संगीन आरोप..

पटना में रूपेश कुमार सिंह की उस वक्त हत्या कर दी गई थी जब वो अपने फ्लैट के नीचे पहुंचे थे. पटना...

आंख में केमिकल स्प्रे मारकर आभूषण कारोबारी से लूटा गहनों से भरा बैग..

दरपा थाना क्षेत्र के छौड़ादानो के रहने वाले स्वर्ण व्यवसाई के आंख में केमिकल स्प्रे मार कर अपराधियो ने लाखों के आभूषण...

Recent Comments